चारित्र आराधना आत्म-निग्रह का मार्ग: आ. महाश्रमण Pravchan Video 30.07.12

जसोल. ३०.०७.२०१२. आचार्य महाश्रमण ने अपने पावन पाथेय में फरमाया कि - चारित्र की आराधना से व्यक्ति आत्म-निग्रह कर सकता है, कर्मो के आगमन को रोक सकता है. श्रावक के लिए ज्ञान एवं विवेक के साथ साथ त्याग प्रत्याख्यान की चेतना भी होना आवश्यक है. श्रावक को बारह व्रतो को धारण कर चारित्र की आराधना करनी चाहिए. श्रावक यह मनोरथ भी रखे कि मैं भी कभी आजीवन सामयिक चारित्र अर्थात साधुत्व को स्वीकार करूँ.

No comments:

Post a Comment